Messages in Hindi & English for Fun & Sharing

Browse messages for many occasions. Search and filter message based on your choice. read more..

Displaying Page 1 (of 1) and 28 items (of 28 items)
<< < 1 > >>
#750 | type: Short Story
कल मैं दफ्तर से जल्दी घर चला आया। आम तौर पर रात में 10 बजे के बाद आता हूं, कल 8 बजे ही चला आया।
सोचा था घर जाकर थोड़ी देर पत्नी से बातें करूंगा, फिर कहूंगा कि कहीं बाहर खाना खाने चलते हैं। बहुत साल पहले, जब हमारी सैलरी कम थी, हम ऐसा करते थे।
घर आया तो पत्नी टीवी देख रही थी। मुझे लगा कि जब तक वो ये वाला सीरियल देख रही है, मैं कम्यूटर पर कुछ मेल चेक कर लूं। मैं मेल चेक करने लगा, तभी दफ्तर से फोन आ गया कि इस ख़बर का क्या करूं, उस ख़बर का क्या करूं और मैं उलझ गया अपने काम में। कुछ देर बाद पत्नी चाय लेकर आई, तो मैं चाय पीता हुआ दफ्तर के काम करने लगा।
अब मन में था कि पत्नी के साथ बैठ कर बातें करूंगा, फिर खाना खाने बाहर जाऊंगा, पर कब 8 से 11 बज गए, पता ही नहीं चला।
पत्नी ने वहीं टेबल पर खाना लगा दिया, मैं चुपचाप खाना खाने लगा। खाना खाते हुए मैंने कहा कि खा कर हम लोग नीचे टहलने चलेंगे, गप करेंगे। पत्नी खुश हो गई।
हम खाना खाते रहे, इस बीच ‘ज़िंदगी’ चैनल पर मेरी पसंद का सीरियल आने लगा और मैं खाते-खाते सीरियल में डूब गया। सीरियल देखते हुए सोफा पर ही मैं सो गया था।
जब नींद खुली तब आधी रात हो चुकी थी।
बहुत अफसोस हुआ। मन में सोच कर घर आया था कि जल्दी आने का फायदा उठाते हुए आज कुछ समय पत्नी के साथ बिताऊंगा। पर यहां तो शाम क्या आधी रात भी निकल गई।
ऐसा ही होता है, ज़िंदगी में। हम सोचते कुछ हैं, होता कुछ है। हम सोचते हैं कि एक दिन हम जी लेंगे, पर हम कभी नहीं जीते। हम सोचते हैं कि एक दिन ये कर लेंगे, पर नहीं कर पाते।
आधी रात को सोफे से उठा, हाथ मुंह धो कर बिस्तर पर आया तो पत्नी सारा दिन के काम से थकी हुई सो गई थी। मैं चुपचाप बेडरूम में कुर्सी पर बैठ कर कुछ सोच रहा था।
पच्चीस साल पहले इस लड़की से मैं पहली बार मिला था। पीले रंग के लहंगे में मुझे मिली थी। फिर मैने इससे शादी की थी। मैंने वादा किया था कि सुख में, दुख में ज़िंदगी के हर मोड़ पर मैं तुम्हारे साथ रहूंगा।
पर ये कैसा साथ? मैं सुबह जागता हूं अपने काम में व्यस्त हो जाता हूं। वो सुबह जागती है मेरे लिए चाय बनाती है। चाय पीकर मैं कम्यूटर पर संसार से जुड़ जाता हूं, वो नाश्ते की तैयारी करती है। फिर हम दोनों दफ्तर के काम में लग जाते हैं, मैं दफ्तर के लिए तैयार होता हूं, वो साथ में मेरे लंच का इंतज़ाम करती है। फिर हम दोनों भविष्य के काम में लग जाते हैं।
मैं एकबार दफ्तर चला गया, तो इसी बात में अपनी शान समझता हूं कि मेरे बिना मेरा दफ्तर नहीं चलता, वो अपना काम करके डिनर की तैयारी करती है।
देर रात मैं घर आता हूं और खाना खाते हुए ही निढाल हो जाता हूं। एक पूरा दिन खर्च हो जाता है, जीने की तैयारी में।
वो पीले लहंगे वाली लड़की मुझ से कभी शिकायत नहीं करती। क्यों नहीं करती मैं नहीं जानता। पर मुझे खुद से शिकायत है। आदमी जिससे सबसे ज्यादा प्यार करता है, सबसे कम उसी की परवाह करता है। क्यों?
***
मुझे तो याद है कि पिताजी भी दफ्तर जाते थे। मां भी खाना पकाती थी। पर तब समय हुआ करता था। सबके पास एक दूसरे के लिए समय था। लोग एक दूसरे से बातें करते थे। एक दूसरे के बारे में सोचते थे। लोग पर्व त्योहार पर एक दूसरे के घर जाते थे। पर अब तो लगता है जैसे किसी ने समय चुरा लिया हो। सब कुछ है, समय ही नहीं है।
कई दफा लगता है कि हम खुद के लिए अब काम नहीं करते। हम किसी अज्ञात भय से लड़ने के लिए काम करते हैं। हम जीने के पीछे ज़िंदगी बर्बाद करते हैं।
कल से मैं सोच रहा हूं, वो कौन सा दिन होगा जब हम जीना शुरू करेंगे। क्या हम गाड़ी, टीवी, फोन, कम्यूटर, कपड़े खरीदने के लिए जी रहे हैं?
***
मैं तो सोच ही रहा हूं, आप भी सोचिए ~
कि ज़िंदगी बहुत छोटी होती है। उसे यूं जाया मत कीजिए। अपने प्यार को पहचानिए। उसके साथ समय बिताइए। अग्नि के फेरे लेते हुए जिसके सुख-दुख में शामिल होने का वादा आपने किया था, उसके सुख-दुख को पूछिए तो सही।
एक दिन अफसोस करने से बेहतर है, सच को आज ही समझ लेना कि ज़िंदगी मुट्ठी में रेत की तरह होती है। कब मुट्ठी से वो निकल जाएगी, पता भी नहीं चलेगा।
तो क्या सोचा आपने ....!!!!
#736 | type: Good Thoughts
तस्वीर के रंग चाहे जो भी हो...

_मुस्कान का रंग हमेशा ख़ूबसूरत ही होता है...!!!
#730 | type: Religious Story
एक बार एक अजनबी किसी के घर
गया। वह अंदर
गया और मेहमान कक्ष मे बैठ गया। वह
खाली हाथ
आया था तो उसने सोचा कि कुछ
उपहार देना अच्छा रहेगा।
तो
उसने वहा टंगी एक पेन्टिंग उतारी
और जब घर का मालिक
आया, उसने पेन्टिंग देते हुए कहा, यह मै
आपके लिए
लाया हुँ। घर का मालिक, जिसे पता
था कि यह मेरी चीज
मुझे ही भेंट दे रहा है, सन्न रह गया !!!!!
अब आप ही बताएं कि क्या वह भेंट
पा कर, जो कि पहले
से ही उसका है, उस आदमी को खुश
होना चाहिए ??
मेरे ख्याल से नहीं....
लेकिन यही चीज हम भगवान के साथ
भी करते है। हम
उन्हे रूपया, पैसा चढाते है और हर चीज
जो उनकी ही बनाई
है, उन्हें भेंट करते हैं! लेकिन
मन मे भाव रखते है की ये चीज मै
भगवान को दे रहा हूँ!
और सोचते हैं कि ईश्वर खुश हो
जाएगें। मूर्ख है हम!
हम यह नहीं समझते कि उनको इन सब
चीजो कि जरुरत
नही। अगर आप सच मे उन्हे कुछ देना
चाहते हैं
तो अपनी श्रद्धा दीजिए, उन्हे अपने
हर एक श्वास मे याद
कीजिये और
विश्वास मानिए प्रभु जरुर खुश
होगा !!
अजब हैरान हूँ भगवन
तुझे कैसे रिझाऊं मैं;
कोई वस्तु नहीं ऐसी
जिसे तुझ पर चढाऊं मैं ।
भगवान ने जवाब दिया :' संसार की
हर वसतु तुझे मैनें दी है। तेरे पास अपनी
चीज सिरफ तेरा अहंकार है, जो मैनें
नहीं दिया ।
उसी को तूं मेरे अरपण कर दे। तेरा
जीवन सफल हो
#728 | type: Life
सीढ़ियाँ उन्हे मुबाराक जिन्हें छत पर जाना हो…मेरी मंज़िल तो आसमाँ है..मुझे रास्ता खुद बनाना है॥
#726 | type: Religious Story
लक्ष्मीजी कहाँ रहती हैं ?

एक बूढे सेठ थे । वे खानदानी रईस थे, धन-ऐश्वर्य प्रचुर मात्रा में था परंतु लक्ष्मीजी का तो है चंचल स्वभाव । आज यहाँ तो कल वहाँ!! 

सेठ ने एक रात को स्वप्न में देखा कि एक स्त्री उनके घर के दरवाजे से निकलकर बाहर जा रही है। 

उन्होंने पूछा : ‘‘हे देवी आप कौन हैं ? मेरे घर में आप कब आयीं और मेरा घर छोडकर आप क्यों और कहाँ जा रही हैं?

वह स्त्री बोली : ‘‘मैं तुम्हारे घर की वैभव लक्ष्मी हूँ । कई पीढयों से मैं यहाँ निवास कर रही हूँ किन्तु अब मेरा समय यहाँ पर समाप्त हो गया है इसलिए मैं यह घर छोडकर जा रही हूँ । मैं तुम पर अत्यंत प्रसन्न हूँ क्योंकि जितना समय मैं तुम्हारे पास रही, तुमने मेरा सदुपयोग किया । संतों को घर पर आमंत्रित करके उनकी सेवा की, गरीबों को भोजन कराया, धर्मार्थ कुएँ-तालाब बनवाये, गौशाला व प्याऊ बनवायी । तुमने लोक-कल्याण के कई कार्य किये । अब जाते समय मैं तुम्हें वरदान देना चाहती हूँ । जो चाहे मुझसे माँग लो । 

सेठ ने कहा : ‘‘मेरी चार बहुएँ है, मैं उनसे सलाह-मशवरा करके आपको बताऊँगा । आप कृपया कल रात को पधारें ।

सेठ ने चारों बहुओं की सलाह ली ।

उनमें से एक ने अन्न के गोदाम तो दूसरी ने सोने-चाँदी से तिजोरियाँ भरवाने के लिए कहा ।

किन्तु सबसे छोटी बहू धार्मिक कुटुंब से आयी थी। बचपन से ही सत्संग में जाया करती थी ।

उसने कहा : ‘‘पिताजी ! लक्ष्मीजी को जाना है तो जायेंगी ही और जो भी वस्तुएँ हम उनसे माँगेंगे वे भी सदा नहीं टिकेंगी । यदि सोने-चाँदी, रुपये-पैसों के ढेर माँगेगें तो हमारी आनेवाली पीढी के बच्चे अहंकार और आलस में अपना जीवन बिगाड देंगे। इसलिए आप लक्ष्मीजी से कहना कि वे जाना चाहती हैं तो अवश्य जायें किन्तु हमें यह वरदान दें कि हमारे घर में सज्जनों की सेवा-पूजा, हरि-कथा सदा होती रहे तथा हमारे परिवार के सदस्यों में आपसी प्रेम बना रहे क्योंकि परिवार में प्रेम होगा तो विपत्ति के दिन भी आसानी से कट जायेंगे। 

दूसरे दिन रात को लक्ष्मीजी ने स्वप्न में आकर सेठ से पूछा : ‘‘तुमने अपनी बहुओं से सलाह-मशवरा कर लिया? क्या चाहिए तुम्हें ?

सेठ ने कहा : ‘‘हे माँ लक्ष्मी ! आपको जाना है तो प्रसन्नता से जाइये परंतु मुझे यह वरदान दीजिये कि मेरे घर में हरि-कथा तथा संतो की सेवा होती रहे तथा परिवार के सदस्यों में परस्पर प्रेम बना रहे।


यह सुनकर लक्ष्मीजी चौंक गयीं और बोलीं : ‘‘यह तुमने क्या माँग लिया। जिस घर में हरि-कथा और संतो की सेवा होती हो तथा परिवार के सदस्यों में परस्पर प्रीति रहे वहाँ तो साक्षात् नारायण का निवास होता है और जहाँ नारायण रहते हैं वहाँ मैं तो उनके चरण पलोटती (दबाती)हूँ और मैं चाहकर भी उस घर को छोडकर नहीं जा सकती। यह वरदान माँगकर तुमने मुझे यहाँ रहने के लिए विवश कर दिया है !!!!!
#701 | type: Life
Develop 5 things for a HAPPY LIFE
1. Mind, which never minds
2. Heart, which never hurts
3. Brain, which never drains
4. Touch, which never pains
5. Relation, which never fails !
#689 | type: Cow
बस गया वो सांवरे के ह्रदय में,
हो गया जो गौमाता का प्यारा ।
सब अमंगल मिट गये उसके,
हुआ वह सबसे न्यारा |

🐮आप सभी को गौ पूजा की मंगल शुभकामनाएँ

!! जय श्री कृष्ण !!
#681 | type: Life
सुन्दर लाइन;

मेरी गलतियां मुझसे कहो

दूसरो से नहीं

कियोंकि सुधार ना मुझे है उनको नहीं
💖💕💞👌👌👌😄
#679 | type: Life
👌👌👌👌👌👌👌👌👌

जीवन शतरंज के खेल की तरह है और यह खेल आप ईश्वर के साथ खेल रहे है..!

आपकी हर चाल के बाद,
अगली चाल वो चलता है..!!

आपकी चाल आपकी 'पसंद' कहलाती है..,
और..,
उसकी चाल 'परिणाम' कहलाती है..!!!
#663 | type: Friend
एक दोस्त के साथ मेरा झगड़ा हो गया...


मुझे गुस्सा आया और मैंने उसका नम्बर मोबाइल से डिलीट कर दिया..












पर उस दोस्त ने कुछ समय बाद मेरे बीमार होने पर मेसेज भेजा....



दोस्त कैसे हो? तबीयत का ध्यान रखना..


मेरे पास नम्बर नहीं था.. मैने सोचा और उस नम्बर पर मेसेज किया


I am fine !
Who are you.


तुरंत उसका फोन 📱 आया, और मुझ पर गुस्सा करने लगा..


क्या बे,
तुझे हाउ (how) का स्पेलिंग
ठीक से लिखना नहीं आता क्या?


how की जगह who
टाइप किया.
ठीक हो जा फिर तुझे English सिखाता हूँ .



मैं सोचने लगा कि कितनी बड़ी Mistake हो गई... .

दोस्ती एेसे तोड़ी नहीं जाती
दोस्त एेसे नाराज भी नही होते


जो सच्चे दोस्त होते हैं..
वो गलत मेसेज का भी अच्छा मतलब निकाल लेते हैं

👌🏻👏🏻👏🏻👏🏻👍🏻👍🏻
#654 | type: Childrens Day
हैप्पी टाबरिया डे....


👫👬👭👬👫
#651 | type: Childrens Day
रोने की वजह ना थी;
ना हंसने का बहाना था;
क्यों हो गए हम इतने बड़े;
इससे अच्छा तो वो बचपन का ज़माना था।
Happy Children's Day
#327 | type: Meaningful
When somebody says you've changed, it's only because you stopped living your life their way
#323 | type: Short Story
एक फकीर ने एक कुत्ते से पूछा कि तू है तो बहुत वफादार, परन्तु तेरे में तीन कमियां हैं।
1-- तू पेशाब हमेशा दीवार पे ही करता है।
2-- तू फकीर को देखकर बिना बात के ही भौंकता है।
3-- तू रात को भौंक-भौंक के लोगों की नींद खराब करता है।
इस पर कुत्ते ने बहुत ही बढ़िया जवाब दिया, कुत्ता बोला ऐ बंदे सुन
1-- जमीन पर पेशाब इसलिए नहीं करता कि कहीं किसी रब्ब के बंदे ने वहां बैठकर रब्ब को सजदा न किया हो।
2-- फकीर पर इस लिए भौंकता हूँ कि वो भगवान को छोड़कर लोगों से क्यों मांगता है, जो कि खुद भीखारी हैं। भगवान से क्यों नहीं मांगता।
3-- और रात को इसलिए भौंकता हूँ कि हे पापी इंसान तू गफलत की नींद में क्यों सोया हुआ है, उठ अपने उस प्रभू को याद कर जिसने तुझे इतना सब कुछ दिया है।
#320 | type: Diwali
सीता जीवित मिली ये राम की ताकत थी...
पर...
सीता पवित्र मिली ये रावण की मर्यादा थी ।।।
#314 | type: Short Story
एक डलिया में संतरे बेचती बूढ़ी औरत से एक युवा अक्सर संतरे खरीदता ।

अक्सर, खरीदे संतरों से एक संतरा निकाल उसकी एक फाँक चखता और कहता,

'ये कम मीठा लग रहा है, देखो !'

बूढ़ी औरत संतरे को चखती और प्रतिवाद करती

'ना बाबू मीठा तो है!'

वो उस संतरे को वही छोड़,बाकी संतरे ले गर्दन झटकते आगे बढ़ जाता।
युवा अक्सर अपनी पत्नी के साथ होता था,

एक दिन पत्नी नें पूछा 'ये संतरे हमेशा मीठे ही होते हैं, पर यह नौटंकी तुम हमेशा क्यों करते हो ?

'युवा ने पत्नी को एक मधुर मुस्कान के साथ बताया -

'वो बूढ़ी माँ संतरे बहुत मीठे बेचती है, पर खुद कभी नहीं खाती, इस तरह मै उसे संतरे खिला देता हूँ ।
एक दिन, बूढ़ी माँ से, उसके पड़ोस में सब्जी बेचनें वाली औरत ने सवाल किया,

- ये झक्की लड़का संतरे लेते इतनी चख चख करता है, पर संतरे तौलते हुए मै तेरे पलड़े को देखती हूँ, तुम हमेशा उसकी चख चख में, उसे ज्यादा संतरे तौल देती है ।

बूढ़ी माँ नें साथ सब्जी बेचने वाली से कहा -

'उसकी चख चख संतरे के लिए नहीं, मुझे संतरा खिलानें को लेकर होती है,
वो समझता है में उसकी बात समझती नही,मै बस उसका प्रेम देखती हूँ, पलड़ो पर संतरे अपनें आप बढ़ जाते हैं ।
#305 | type: Dussehra
जरूरी है अपने ज़ेहन में 'राम' को ज़िन्दा रखना;
दोस्तो... पुतले जलाने से कभी 'रावण' नहीं मरते।
दशहरे की आपको हार्दिक शुभ कामनायें!
#285 | type: Social
कुम्हारन बैठी रोड़ किनारे,लेकर दीये दो-चार।
जाने क्या होगा अबकी,करती मन में विचार।।

याद करके आँख भर आई,पिछली दीवाली त्योहार।
बिक न पाया आधा समान,चढ गया सर पर उधार।।

सोंच रही है अबकी बार,दूँगी सारे कर्ज उतार।
सजा रही है, सारे दीये करीने से बार बार।।

पास से गुजरते लोगों को देखे कातर निहार।
बीत जाए न अबकी दीवाली जैसा पिछली बार।।

नम्र निवेदन मित्रों जनों से,करता हुँ मैँ मनुहार।
मिट्टी के ही दीये जलाएँ,दीवाली पर अबकी बार।।
#280 | type: Good Thoughts
दुनिया का सबसे अच्छा तोहफा

' वक्त ' है,

क्योंकि, जब आप किसी को अपना वक्त देते हैं,
तो आप उसे अपनी
'जिंदगी '
का वो पल देते हैं,
जो कभी लौटकर नहीं आता.....
#277 | type: Letter
Beautiful letter written by a father to his son. Must send to your children

Following is a letter to his son from a renowned Hong Kong TV broadcaster and Child Psychologist.
The words are actually applicable to all of us, young or old, children or parents.!
This applies to daughters too. All parents can use this in their teachings to their children.

Dear son ,
I am writing this to you because of 3 reasons

1. Life, fortune and mishaps are unpredictable, nobody knows how long he lives. Some words are better said early.

2. I am your father, and if I don't tell you these, no one else will.

3. What is written is my own personal bitter experiences that perhaps could save you a lot of unnecessary heartaches. Remember the following as you go through life

1. Do not bear grudge towards those who are not good to you. No one has the responsibility of treating you well, except your mother and I.
To those who are good to you, you have to treasure it and be thankful, and ALSO you have to be cautious, because, everyone has a motive for every move. When a person is good to you, it does not mean he really likes you. You have to be careful, don't hastily regard him as a real friend.

2. No one is indispensable, nothing is in the world that you must possess.
Once you understand this idea, it would be easier for you to go through life when people around you don't want you anymore, or when you lose what/who you love the most.

3. Life is short.
When you waste your life today, tomorrow you would find that life is leaving you. The earlier you treasure your life, the better you enjoy life.

4. Love is but a transient feeling, and this feeling would fade with time and with one's mood. If your so called loved one leaves you, be patient, time will wash away your aches and sadness.
Don't over exaggerate the beauty and sweetness of love, and don't over exaggerate the sadness of falling out of love.

5.A lot of successful people did not receive a good education, that does not mean that you can be successful by not studying hard! Whatever knowledge you gain is your weapon in life.
One can go from rags to riches, but one has to start from some rags!

6.I do not expect you to financially support me when I am old, neither would I financially support your whole life. My responsibility as a supporter ends when you are grown up. After that, you decide whether you want to travel in a public transport or in your limousine, whether rich or poor.

7. You honour your words, but don't expect others to be so. You can be good to people, but don't expect people to be good to you. If you don't understand this, you would end up with unnecessary troubles.

8. I have bought lotteries for umpteen years, but I could never strike any prize. That shows if you want to be rich, you have to work hard! There is no free lunch!

9. No matter how much time I have with you, let's treasure the time we have together. We do not know if we would meet again in our next life.
Your Dad
#266 | type: Religious
जीवन में
कोई '➕' करता है ❗
कोई '➖' करता है ❗
कोई '✖' करता है ❗
कोई ' ➗' करता है ❗
❗ बस ❗

परमेश्वर है जो समय आने पर
सब ' = ' कर देता है !
#218 | type: Shayari
जो सरफिरे होते है ।।इतिहास वही
लिखते है
समजदार लोग तो सिर्फ उनके बारे में
पढते हैं।।
परख अगर हीरे की करनी है तो अंधेरे
का इन्तजार करो......,,,
वरना धुप मे तो काँच के टुकडे भी
चमकते है
#213 | type: Life
Life is much like Facebook:People will like your problems & comment but no one's gonna solve them.Because everybody seems so busy in updating their own!
#209 | type: Life
Love and compassion are necessities, not luxuries. Without them humanity cannot survive. First Love Yourself and the frequency of loving increases. Live life spreading love.
#205 | type: Fathers Day
Papa jab dukhi hote hai to Maa ki tarah Rota nahi.... shayad isiliye 90%Papa Heart attack se Mar
jaate hai.... so please Respect And Obey Father... kyokiPapa..... Papa hote haii👏
Love u papa😘😘
#204 | type: Fathers Day
कविता for all Daddy's👤😘

वो पिता👤 होता है
वो पिता👤 ही होता है

जो अपने बच्चो👦 को अच्छे
विद्यालय में पढ़ाने के लिए
दौड🏃 भाग करता है...

उधार लाकर donation भरता
है, जरूरत पड़ी तो किसी के भी
हाथ🙏 पैर भी पड़ता है
....... वो पिता👤 होता हैं ।।

हर कोलेज🏬 में साथ👥साथ
घूमता है, बच्चे के रहने के
लिए होस्टल🏨 ढुँढता है...
स्वतः फटे कपडे पहनता है
और बच्चे के लिए नयी जीन्स👖
टी-शर्ट👕 लाता है
.......... वो पिता👤 होता है ।।

खुद खटारा फोन📞 वपरता है पर
बच्चे के लिए स्मार्ट📱 फोन लाता है...

बच्चे की एक आवाज सुनने के
लिए, उसके फोन में पैसा💰 भरता है
....... वो पिता👤 होता है ।

बच्चे के प्रेम विवाह के निर्णय पर
वो नाराज़😔 होता है और गुस्से
में कहता है सब ठीक से देख
लिया है ना, 'आपको कुछ
समजता भी है?' यह सुन कर
बहुत रोता😢 है
.......वो पिता👤 होता हैं ।।

बेटी की विदाई पर दिल की
गहराई से रोता😭 है,
मेरी बेटी का ख्याल रखना हाथ
जोड़👏 कर कहता है
......... वो पिता👤 होता है ।।


पिता का प्यार दिखता नहीं है
सिर्फ महसूस किया जाता है।
माँ पर तो बहुत कविता लिखी
गयी है पर पिता पर नहीं।
पिता का प्यार क्या है दुनिया
को बता दो।
#192 | type: Meaningful
श्रीराम...॥
सुन्दर सुबह का मीठा मीठा नमस्कार..

ना घुमने के लिये कार चाहिए ,

ना गले के लिए हार चाहिए ,

भगवद् गीता मे भगवान श्री कृष्णा ने बहुत
बड़ी बात कही है , !!

जीवन के उद्धार के लिए केवल मित्र , प्रेम और परिवार चाहिए.....
Good Morning
#191 | type: Religious
👌आज कल लगभग हर
जगह लिखा होता है
आप कैमरे की नज़र में है
जिसको पढते साथ ही हम
सतर्क हो जाते है ।👌

👍परन्तु हम यह भूल जाते है
कि हम हर समय भगवान
की नज़र में है👍
<< < 1 > >>